Followers

Friday, July 29, 2011

मिलें हवाओं को गीत /ਮਿਲਣ ਹਵਾਵਾਂ ਨੂੰ ਗੀਤ


















मैं तो खुश ही हूँ
बल्कि खुश ही हूँ मैं 
क्यों जो तुम खुश हो 
तुझे पता है ?
कि जब तुम हँसते हो
तो सारी कायनात
मुस्कराती है 
तेरे मुस्कराने से 
यह पर्वत 
गाने लग जाते हैं 
इन  वृक्षों द्वारा 
कोई इलाही संगीत 
गूंज उठता है 
मैं खिल-खिलाकर हँसती हूँ
और मेरे साथ -साथ
यह दुनिया जैसे झूम उठती है 
रब इंतजार करता है 
मेरे बोलने का
इस पवन को 
एक और गीत देने के लिए 
आज का गीत ..
इस पल का गीत 
अब तुम हँसते ही रहना 
ताकि  मेरे होंठों से 
इन हवाओं को    
गीत मिलते ही रहें 

गुलशन दयाल 
अनुवाद डॉ . हरदीप सन्धु






ਮੈਂ ਤਾਂ ਖੁਸ਼ ਹੀ ਹਾਂ 

ਬਲਕਿ ਖੁਸ਼ੀ ਹੀ ਹਾਂ ਮੈਂ 
ਕਿਓਂਕਿ ਤੂੰ ਖੁਸ਼ ਹੈਂ 
ਤੇਨੂੰ ਪਤਾ ਹੈ ?
ਕਿ ਜਦ ਤੂੰ ਹੱਸਦਾ ਹੈਂ 
ਤਾਂ ਜਿਵੇਂ ਸਾਰੀ ਕਾਇਨਾਤ
ਮੁਸਕਾਂਦੀ ਹੈ 
ਤੇਰੇ ਹਸਦਿਆਂ ਹੀ 
ਇਹ ਪਹਾੜੀਆਂ ਤੇ ਪਹਾੜ 
ਗਾ ਉਠਦੇ ਨੇ 
ਇਹ ਦਰਖਤਾਂ ਰਾਹੀਂ
ਤੇਰੇ ਲਈ ਕੋਈ 
ਇਲਾਹੀ ਸੰਗੀਤ ਉਤਰਦਾ ਹੈ 
ਮੈਂ ਖਿੜ ਖਿੜ ਹੱਸਦੀ ਹਾਂ 
ਤੇ ਮੇਰੇ ਨਾਲ ਨਾਲ 
ਇਹ ਸੰਸਾਰ ਵੀ ਜਿਓਂ ਝੂਮਦਾ ਹੈ 
ਰੱਬ ਮੇਰੇ ਬੋਲਾਂ ਲਈ ਉਡੀਕਦਾ ਹੈ 
ਤਾਂ ਜੋ ਉਹ ਪੌਣਾਂ ਨੂੰ 
ਕੋਈ ਇੱਕ ਹੋਰ ਗੀਤ ਦੇ ਸਕੇ
ਅੱਜ ਦਾ ਗੀਤ , ਹੁਣ ਦਾ ਗੀਤ 
ਹੁਣ ਤੂੰ ਹੱਸਦਾ ਹੀ ਰਹੀਂ
ਤਾਂ ਜੋ ਮੇਰੇ ਹੋਠਾਂ ਰਾਹੀਂ
ਇਨ੍ਹਾਂ ਹਵਾਵਾਂ ਨੂੰ ਗੀਤ ਮਿਲਦੇ ਹੀ ਰਹਿਣ
ਗੁਲਸ਼ਨ ਦਿਆਲ
गुलशन दयाल 


6 comments:

  1. मैं खिल-खिलाकर हँसती हूँ
    और मेरे साथ -साथ
    यह दुनिया जैसे झूम उठती है ..
    ख़ूबसूरत पंक्तियाँ! मन प्रफुल्लित हो गया! बहुत सुन्दर और मनमोहक रचना!

    ReplyDelete
  2. हरदीप जी इतनी भावपूर्ण रचनाएँ कहाँ छुपाकर रखती हैं ? गुलशन दयाल को बहुत बधाई और आपका अनुवाद बहुत सहज है।

    ReplyDelete
  3. ह्रदय के कोने कोने में
    इक अजब-सी महक भर देते हुए
    खूबसूरत अलफ़ाज़ ....
    तन-मन को झंकार तक ले जाने वाली
    सुन्दर रचना ...

    अभिवादन

    ReplyDelete
  4. गुलशन दयाल जी की सुन्दर भावना का
    खूबसूरत अनुवाद...बधाई..

    ReplyDelete
  5. This is very nice information to us. I like this post . if do u want to know about Luxury India Tours,Luxury India Tours please visit us at: http://www.aboutindiatours.com

    ReplyDelete
  6. क्या बात है!! वाह!

    ReplyDelete